Wednesday, 15 February 2017

India







- तीनों आरोपियों में तारिक अहमद डार हमले का मास्टरमाइंड था।
- पुलिस को डार और बाकी आरोपियों के फोन कॉल डिटेल्स से पता चला था कि वे आतंकी गुट लश्कर-ए-तैयबा के टच में थे।
- इस मामले में 250 से ज्यादा गवाहों के बयान दर्ज किए गए थे।
3 जगहों पर हुए थे धमाके
- 29 अक्टूबर को दिल्ली के सरोजनी नगर, कालकाजी और पहाड़गंज में धमाके हुए थे।
- पुलिस ने इस मामले में 3 अलग-अलग केस दर्ज किए थे।
एक ही धमाके में मारे गए थे 50 लोग
- धमाके दीपावली से एक दिन पहले हुए थे, लिहाजा पूरा शहर जश्न और खरीददारी में जुटा था। बाजारों में भीड़ थी।
- पहला धमाका शाम 5:38 बजे पहाड़गंज में हुआ, जिसमें 10 लोगों की मौत हुई और करीब 60 लोग घायल हुए।
- दूसरा धमाका शाम 6:00 बजे गोविंदपुरी में हुआ, जिसमें 4 लोग घायल हुए।
- तीसरा धमाका सरोजनी नगर में शाम 6:05 बजे हुआ। इसमें सबसे ज्‍यादा 50 लोगों की मौत हुई थी।

No comments:
Write comments

AdSense

amazon